Education News Guru

Education News,Govt Job Information, Syllabus,Result,Admit Card,Old Question Paper, Answer Key,Entrance Exam, Scholarship Form And Important Education News

बीएससी क्या हैं ?, बीएससी में एडमिशन कैसे ले ,क्या हैं

 बीएससी क्या हैं :- 



बीएससी एक तीन साल की स्नातक (ग्रेजुएशन ) डिग्री हैं , इस डिग्री में हमें कोई तीन विषयों के साथ न्यूनतम एडमिशन लेना होता हैं , ये विषय कोई भी हो सकते हैं 
जैसे की अगर कोई विद्यार्थी विज्ञानं में जीव-विज्ञानं का छात्र है कक्षा 12 में तो वह निम्न तीन विअश्यो का चयन कर सकता है  -
 


विषय 

बीएससी में विषय 

जीव विज्ञान

BOTANY 

जूलॉजी 

जियोलॉजी 

CHEMITRY

बायोलॉजी 

MIRCOBIOLOGY 

मैथ 

फिजिक्स 

Maths 

चेमिट्री 

इलेक्ट्रॉनिक्स

स्टैटिक्स 


एग्रीकल्चर 

एग्रीकल्चर

हॉर्टिकल्चर

SERICULTURE





बीएससी कौन कौन ले सकते है एडमिशन:- 
इस के डिग्री के अंदर केवल विज्ञान वर्ग के विद्यार्थी एडमिशन ले सकते हैं जिनके 12 वि  कक्षा में विज्ञानं विषय हो जिनमे कोई भी फील्ड हो सकता हैं.

बीएससी में कोन-कौन से विषय अनिवार्य हैं -

  1. बीएससी के विषय सूची में आप बॉटनी जूलॉजी जियोलॉजी या फिर कोई अन्य सब्जेक्ट ले सकते हैं जिसका संबंध जीव विज्ञान से हो या वह जीव विज्ञान के अंतर्गत आता हो

  2.  अगर आप कक्षा 12 में गणित विषय का चयन करते हैं तो आपको बीएससी में प्रथम वर्ष में कोई गणित का विषय रखना अनिवार्य होगा या कहे तो गणित विषय होना अनिवार्य है गणित के साथ आप मिनिमम कोई अन्य दो विषय जैसे की केमिस्ट्री फिजिक्स या स्टैटिक्स या इलेक्ट्रॉनिक्स आदि विषयों का चयन कर सकते हैं

  3. अगर आप भी ऐसे एग्रीकल्चर चेक करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके कक्षा 12 में विज्ञान विषय होना अनिवार्य है एवं साथ ही साथ आपके एग्रीकल्चर हो तो आपको प्रथम प्रायिकता दी जाएगी अन्यथा आप अन्य विषय से भी इसमें प्रवेश ले सकते हैं

  4. अगर आप माइक्रोबायोलॉजी सूक्ष्म जीव विज्ञान में प्रवेश लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपके कक्षा 12 में जीव विज्ञान होना अनिवार्य है



बीएससी नर्सिंग:-

दोस्तों बाकी बीएससी केवल 3 वर्षों की होती है लेकिन यह कोर्स 4 वर्षों से अधिक वर्षों का है जिसमें आपके कक्षा 12 जीव विज्ञानविषय होना अनिवार्य है 

इस में एडमिशन के लिए आपको अधिकतर प्रवेश परीक्षा देनी होती है जिसके बाद आपके उस विषय में उस परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर आपको कॉलेज का निर्धारण किया जाएगा एवं उचित नंबरों के अनुसार उचित व विद्यालय महाविद्यालय का आवंटन आपको किया जाएगा,

 इसमें आपके मानव स्वास्थ्य से संबंधित एवं चिकित्सालय से संबंधित विषयों का समायोजन होगा एवं इसके बाद आप किसी भी चिकित्सालय में नर्सिंग ऑफिसर या प्राथमिक नर्सिंग ऑफिसर की तरह सेवाएं दे सकते हैं



bsc microbiology:-बीएससी इन माइक्रोबायोलॉजी
अगर आप सूक्ष्म जीव विज्ञान में बीएससी की डिग्री करना चाहते हैं तो आपके कक्षा 12 में विज्ञान विषय जिसमें जीव विज्ञान होना अनिवार्य है एवं अगर आप इसमें मास्टर्स की डिग्री लेना चाहते हैं तो आपके ग्रेजुएशन के अंदर केमेस्ट्री बॉटनी जूलॉजी होना चाहिए जिसके अंतर्गत थोड़े पाठ और बायो टेक्नोलॉजी के भी होने चाहिए इसके पश्चात आप मास्टर्स के अंदर माइक्रोबायोलॉजी का चयन कर सकते हैं

BSC IN COMPUTER:-

कंप्यूटर विषय में बीएससी करने के लिए आपके कक्षा 12 में विज्ञान विषय होना अनिवार्य है जिसमें अगर आप गणित के विद्यार्थी हैं तो आप सीधे कंप्यूटर विषय का चयन कर सकते हैं अन्यथा आप अतिरिक्त विषय के रूप में कंप्यूटर को चयनित कर सकते हैं उसके बाद आपको कंप्यूटर का विषय भी अपनी स्नातक की डिग्री में मिल जाएगा



बीएससी प्रथम वर्ष

प्रथम वर्ष में आपको कक्षा 12 के बाद एडमिशन मिलता है जिसमें कि आपके रेगुलर कक्षाओं के साथ-साथ आपकी प्रैक्टिकल कक्षाओं का आयोजन भी किया जाता है

 जिसमें आप के विषय के अनुसार प्रायोगिक कक्षाओं का आयोजन किया जाता है यदि आपके कक्षा 12 में जीव विज्ञान विषय है तो आपके कक्षा बीएससी प्रथम वर्ष में सभी प्रैक्टिकल  होंगे जिसमें रसायन विज्ञान  बॉटनी, जूलॉजी, जियोलॉजी, रसायन विज्ञान इन सभी में प्रायोगिक कक्षाओं का आयोजन होगा एवं सत्र के अंत में या हर 6 महीने यानी कि सेमेस्टर के बाद आप की प्रायोगिक एवं लिखित परीक्षाओं का आयोजन किया जाएगा जिसमें की प्रायोगिक परीक्षाएं भी आप के रिजल्ट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी


बीएससी द्वितीय वर्ष

बीएससी के द्वितीय वर्ष में आपके पास वही विषय रहेंगे जो आपके बीएससी के प्रथम वर्ष में थे इस में आने के बाद आप अपने विषयों में किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं कर सकते बाकी की प्रक्रिया याने की प्रायोगिक एवं कक्षा पाठ की प्रक्रिया ठीक उसी प्रकार की रहेगी जो प्रथम वर्ष में थी अंतर इतना है कि इसमें आपके अनिवार्य विषय जैसे कि पर्यावरण अध्ययन हिंदी या अंग्रेजी इन सब की परीक्षाएं नहीं होगी जो कि प्रथम वर्ष में आयोजित हो जाती है अगर आप इन में से किसी एक विषय में अनुत्तीर्ण हो जाते हैं तो वह आपके बैक मानी जाएगी यानी कि उस विषय की परीक्षाएं भी इस साल यानि द्वितीय वर्ष में साथ में होने वाली है अगर आप प्रथम वर्ष में कोई विषय में अनुचित में रहते हैं तो वह द्वितीय वर्ष में पुणे आयोजित की जाएगी इसमें आपके साल खराब होने की संभावना नगण्य रहती है


बीएससी तृतीय वर्ष 

बीएससी तृतीय वर्ष में उन सभी परीक्षाओं का आयोजन होता है जो आपके सेकंड ईयर में हुई थी जिसमें आप के तीन मुख्य विषय एवं वह सारे विषय बाकी रहेंगे जो कि आपने  द्वितीय वर्ष तक अनुसरण थे यानी कि जिसमें आपके बैक आई हुई थी उन सभी परीक्षाओं का आयोजन बीएससी तृतीय वर्ष में किया जाएगा अगर आप इस वर्ष भी कोई विषय में अनुत्तीर्ण रहते हैं तो इस बार आपको पुनपुणे बीएससी तृतीय वर्ष की परीक्षाएं देनी पड़ेगी